Panchamrit recipe in Hindi(पंचामृत बनाने कि विधि)1 amazing recipe

Panchamrit recipe in Hindi(पंचामृत बनाने कि विधि)1 amazing recipe

Panchamrit recipe in Hindi 6 अद्भुत छवियों के साथ पंचामृत एक पारंपरिक परंपरा है जिसका उपयोग हिंदू धार्मिक कमी किया जाता है पंचामृत बनाने के लिए आसान और तुरंत इन पांच व्यंजनों से बने दूध, दही, चीनी, शहद और घी जो प्रसाद बनाता हैं।

पंचामृत प्रसाद जैसा धार्मिक त्योहार और घर पर किसी भी पूजा में सत्यनारायण पूजा या गणेश पूजा की जाती है संस्कृत में पंच का अर्थ पांच है जैसा कि इसकी विपरीत पांच सामग्री और अमृत का मतलब सुधा है जो देवताओं का पेय है ऐसा माना जाता है कि पंचामृत शुद्ध और राक्षसी है और इसका उपयोग पूजा के दौरान किया जाता है और बाद में प्रसाद के रूप में भी किया जाता है जो लोग दर्शन या पूजा करने आते हैं वह केवल एक पंचामृत लेते हैं तुलसी के अर्क का एक गार्निश पंचामृत एक अच्छा स्वाद और सुंगध भी प्रदान करता है ।

Panchamrit recipe in Hindi से बने पंचामृत को धार्मिक त्योहारों के दौरान घर पर इस पंचामृत प्रसाद का आनंद लें पंचामृत में होता है दही, इसलिए तीन से चार घंटे तक करें सेवन यदि पंचामृत स्टोर में अधिक दूध और कम दही है तो इसे सुबह खाया जा सकता है और रात में इस्तेमाल किया जा सकता है पंचामृत रेसिपी के अलावा प्रसाद के रूप में बनाई जा सकने वाली अन्य रेसिपी मोदक और मावा मोदक हैं।


सावन में भगवान शिव को पंचामृत स्नान करने का विशेष महत्व है सर्वप्रथम शिवलिंग पर जल अर्पण करें और उसके बाद दूध, दही, घी, शहद और शक्कर चढ़ाई प्रत्येक वस्तु अर्पण के बाद शिवलिंग को जल से स्नान कराएं। तत्पश्चात दूध ,दही, घी,शहद और शक्कर, पांचों को मिलाकर एक साथ शिवार्पण करें।


किसी भी खास अवसर पर प्रसाद के रूप में भगवान को नैवेद्य या भोग में पंचामृत अवश्य चढ़ाना चाहिए दूध ,दही, घी ,शहद और शक्कर को मिलाकर पंचामृत बनाया जाता है पंचामृत का अर्थ है पांचों प्रकार के मिश्रण से बनने वाली पंचामृत में से भगवान प्रसन्न होते हैं।


पंचामृत का महत्व आयुर्वेद में पंचामृत यानी रस, रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मजा और शुक्र बढ़ाने से शरीर मजबूत होता है इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और संक्रामक रोगों से भी बचा जा सकता है आयुर्वेदाचार्य मिश्रा के अनुसार पंचामृत में सभी चीजों की विशेष मात्रा ली जाती है इसे बनाने में घी और शहर की मात्रा का विशेष ध्यान रखा जाता है।


कृष्ण जन्माष्टमी यहां है यह त्यौहार भगवान कृष्ण के जन्म का जश्न मनाता है और भक्त इस दिन उपवास रखते हैं जैसा कि हम जानते हैं माखन और मिश्री भगवान कृष्ण के पसंदीदा है पंचामृत भी उसी सूची का एक हिस्सा है पंचामृत पांच तत्वों का मिश्रण है जिसे जन्माष्टमी पर प्रसाद की रूप में तैयार किया जाता है लेकिन बहुत से लोग नहीं जानते कि पंचामृत आपको कुछ आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ प्रदान कर सकता है ।


पंचामृत का अर्थ पांच अमृत यानी पांच पवित्र वस्तुओं से बना यह मिश्रण दूध, दही, घी ,चीनी और मधु मिलाकर बनाया गया एक प्रिय पदार्थ होता है जो हव्य यानी देवताओं का भोजन बनता है प्रसाद के रूप में भी इसका बहुत महत्व है ।

इसी से भगवान का अभिषेक भी किया जाता है इसको पीने से व्यक्ति के भीतर जहां सकारात्मक भाव पैदा होते हैं वही यह शरीर से जुड़ा मामला भी है कुछ ग्रंथों में पंचामृत का महत्व बताया गया है कि श्रद्धापूर्वक पंचामृत का पान करने वाले व्यक्ति को जीवन में सभी प्रकार की सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है भगवान को चढ़ाए हुए पंचामृत को पीने से मनुष्य जन्म और मरण के बंधन से मुक्त हो जाता है और मोक्ष प्राप्त करता है। Panchamrit recipe in Hindi

Panchamrit recipe in Hindi को बनाने कि आवश्यक सामग्री:

  • 250 मिली गाय का दूध।
  • दो टेबल चम्मच मिश्री पिसी हुई ।
  • एक चम्मच शहद ।
  • एक चम्मच देशी घी ।
  • दो चम्मच ताजा दही ।
  • 2 से 3 तुलसी के पत्ते।
  • Panchamrit recipe banane ki vidhi:
  • सबसे पहले गाय के ताजे दूध में पीसी मिश्री, शहद, दही और घी मिलाकर अच्छी तरह फेंट लें।
  • इसमें तुलसी के पत्ते मिलाएं।
  • पंचामृत तैयार हैं।
  • इस प्रकार दूध, चीनी, शहद ,दही और घी आदि पांच अमृतो को मिलकर ही पंचामृत बनाया जाता है पंचामृत का सेवन कई लोगों में लाभदायक और मन की शांति प्रदान करने वाला होता है इसके सेवन से स्वास्थ्य बेहतर बना रहता है।


Panchamrit recipe in Hindi से बने पंचामृत के फायदे

  • कैल्शियम से भरपूर होता है।
  • हड्डियों को मजबूती मिलती हैं।
  • दिमाग को शांत रखता हैं।
  • तब्जा संबंधी समस्याएं भी कम होती हैं।
  • कैंसर का खतरा कम होता हैं।
  • डायबिटीज कंट्रोल होती हैं।
  • ब्लड प्रेशर कंट्रोल रहता हैं।
  • सेहत के लिए फायदेमंद।
  • स्क्रीन के लिए भी फायदेमंद।
  • डाइट में कर सकते हैं शामिल।

पंचामृत एक संस्कृत शब्द है जिसे पंचामृत्तम या पंचामृत भी कहा जाता है इसका अर्थ है पंच या पांच और अमृत या अमरता का अमृत इसके अलावा यह एक दिव्य औषधि है जो सप्त धातु- सात शारीरिक उनको जो आपकी फिटनेस को नियंत्रित करती है, का पोषण करती है इस इसलिए पंचामृत का नियमित सेवन आपको बेहद फायदेमंद पहुंच जाता हैं।


चिकित्सा साहित्य में पंचामृत के दुष्प्रभाव के बारे में कोई सूचना नहीं मिली है हालांकि पंचामृत का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह मशविरा जरूर करें।


हर्बल सामग्री पौष्टिक पौधे को उत्तेजित करके, ग्रंथियां को उत्तेजित करने और पाचन प्रक्रिया के लिए आवश्यक एंजाइम प्रदान करके पाचन प्रक्रिया को मजबूत करती है पंचामृत सिर्फ हर्बल घटक का एक संतुलित संयोजन है जिसे पाचन टॉनिक के रूप में प्रयोग किया जाता है इसका उपयोग चिड़चिड़ा हुआ आंत्र, मरमत क्षतिग्रस्त ऊतकों को सूजन और पाचन अंगों को राहत प्रदान करता है यह सिर्फ किसी भी मौसम में और किसी भी उम्र में लिया जा सकता है।https://foodwada.com/

Panchamrit recipe in Hindi / पंचामृत के धार्मिक महत्व

Panchamrit recipe in Hindi से बने पंचामृत के धार्मिक महत्व इस प्रकार

  1. दुध: यह पंचामृत का प्रथम भाग है यह शुभता का प्रतीक है यानि हमारा हिंदू जिनी तरह निष्कलंक होना चाहिए।
  2. दही: इसका गुण है कि यह दूसरों को अपने जैसा बनाता है दही चढ़ाने का अर्थ यही है कि पहले हम निष्कलंक हो सद्गुण अपनाएं और दूसरों को भी अपने जैसा बनाएं।
  3. घी: यह स्निग्धता और स्नेह यानी प्रेम का प्रतीक है सभी से हमारी प्रेम पूर्ण संबंध हो, यही भावना है ।
  4. शहद: यह शक्ति भी प्रदान करता है तन और मन से शक्तिशाली व्यक्ति ही सफलता पा सकता हैं।
  5. शक्कर: इसका गुण है मिठास, चीनी चढ़ाने का अर्थ है जीवन में मिठास घोलें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »

Discover more from FOODWADA

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading