1 amazing masala makhana recipe कैसे बनाएं :

1 amazing masala makhana recipe कैसे बनाएं :

मखाना कांटेदार जल लिली के पौधों के बीजों से तैयार किया जाता है यह बीज फूल के कंद में कांटेदार गुच्छे के रूप में जमा रहते हैं पकने पर यह बंडल फट जाता है। और बीज तालाब में उम्र बढ़ाने के लिए छोड़ देते हैं।


बाद में बीज को काटा जाता है, धूप में सुखाया जाता है और बाद में चटकने के लिए तेज आंच पर भुना जाता है। इन चबूतरे को “मखाना”के नाम से जाना जाता है। वे हल्के और कुरकुरे होते हैं लेकिन हवा के संपर्क में आने के बाद नरम हो जाते हैं। इसलिए उपयोग से पहले दुबारा इसे भुना जाता है।

इन कुरकुरे पॉप्स को आमतौर पर पिसे हुए मसाले के साथ पकाया जाता है या तैयार मीठे कार्मेल सिरप में मिलाया जाता है। और एक स्वादिष्ट और व्यसनी मसालेदार या मीठा नाश्ता पाने के लिए थोड़े समय के लिए भूला जाता है।

Masala makhana recipe
Masala makhana recipe


मखाना को फूल मखाना के नाम से भी जाना जाता है, यह पोप्ड वोटर लिली बीजों का भारतीय नाम है। इन्हें फोक्स नट्स के रूप में भी जाना जाता है और अक्सर स्वादिष्ट स्नेक्स मिठाई और करी बनाने के लिए उपयोग में लिया जाता है। मैंने खाना नहीं तैयार करने के लिए एक तरीका सांझा किया है और भी अलग-अलग तरीके हैं जैसे मसालेदार, जड़ी -बूटि ,कार्मेल और चिवड़ा।


Masala makhana recipe को मखाना या लोमड़ी को अक्सर कमल के बीज समझ लिए जाते हैं, जिन्हें वास्तव में भारत में कमल गट्टा के नाम से जाना जाता है। स्पष्ट होने के लिए-मखाना कमल के बीज से नहीं है, बल्कि वे पानी लिली बीज से हैं।

Masala makhana recipe
Masala makhana recipe


असली कमल के बीज वाटर लिली बीजों की तरह फुटते नहीं है।
जबकि दोनों जलीय पौधे के बीच है ,मखाना जल लिली के पौधे से आते हैं जो यूरिले फॉरेक्स गैलिसबरी प्रजाति के है और कमल के बीज कमल के पौधे से आते हैं।जो नेलुम्बो न्यू सिफेरा गार्टनर प्रजाति के हैं।


कमल गट्टा (कमल का बीज) का उपयोग आयुर्वेद औषधीय परियोजनाओं के लिए और पूजा ,ध्यान और होम/ हवन के दौरान धार्मिक उद्देश्यों के लिए भी किया जाता है। की आयुर्वेदिक पुस्तकों में यह भी उल्लेख किया गया है की कमल के बीज का उपयोग कार्डियो और तांत्रिका टॉनिक के रूप में किया जाता था।
के एशियाई देशों में ताजे और सुखे कमल के बीज दोनों विभिन्न रूपों में खाया जाता है।


इसलिए यदि आप स्वास्थ्य लाभ के लिए मखाने का सेवन यह सोचकर कर रहे हैं कि यह कमल के बीज है, तो कृपया ध्यान रखें कि मखाने के पोषण मूल्य और स्वास्थ्य लाभ कमल के बीज के समान नहीं हो सकता हैं।
मखाना हिंदू देवताओं को प्रसाद के रूप में चढ़ाया जाता है और उपवास के दौरान विभिन्न रूपों में खाया जाता है । इनका उपयोग खीर बनाने और भुनकर नाश्ते में खाया जाता है।

Masala makhana recipe
Masala makhana recipe

Masala makhana recipe की आवश्यक सामग्री:

Masala makhana recipe में निम्न सामग्री आवश्यक है

  • ½ चम्मच कश्मीर मिर्च
  • पाउडर ¼ चम्मच नमक
  • ½ चम्मच लहसुन पाउडर
  • ⅓ चम्मच गरम मसाला या चाट मसाला
  • स्वाद अनुसार नमक और मसाला

Masala makhana recipe बनाने की विधि:

Masala makhana recipe को बनाने के लिए एक छोटे कटोरे में डालें सामग्री को।
यहां ज्यादा पानी आपके मखाने को बहुत ज्यादा नरम बन सकता है सावधानी से गाढ़ा पेस्ट बनाने के लिए दो बैचों में ¾ से एक बड़ा चम्मच पानी डालें।
यह वह स्थिरता है जो आप चाहते हैं।


एक पैन में दो से 2 १/३ कप (35 से 40 ग्राम) मखाना डालें इस पेस्ट का आधा भाग पूरे मखाने पर छिड़कें। यह गुठलियां में गिर जाएगा ,अपने दोनों हाथों का उपयोग करके मसाले की पेस्ट को पूरे मखाने पर रगड़ें।
अपने स्वाद के अनुसार आवश्यकता अनुसार और पेस्ट डालें मैं पूरी पेस्ट का उपयोग करता हूं ।

Masala makhana recipe मखाने को बार-बार मलते रहे जब तक की सभी अच्छे से पक ना जाए उन्हें धीमी से मध्य धीमी आंच पर तब तक भूने जब तक वे कुरकुरे और कुरकुरे ना हो जाए आप चाहे तो इसी समय एक चम्मच घी डालकर 1 मिनट और घूम लीजिए ।


बंद कर दे और पैन में ही ठंडा होने दे अच्छी तरह भूना हुआ मखाना कुचलने पर टूट जाता है और पाउडर जैसा हो जाता है ।

Masala makhana recipe के फायदे और नुकसान:
Masala makhana recipe के फायदे

Masala makhana recipe में मखाना प्रोटीन ,पोटेशियम ,फॉस्फोरस,कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, मैग्नीशियम ,आयरन और जिंक की अच्छाइयों से भरे होते हैं यह आवश्यक पोषक तत्व इस कुरकुरे को एक उत्तम स्वास्थ्यवर्धक नाश्ता बनाते हैं ।


कहा जाता है कि इन बीजों में मौजूद एंटी- एजिंग एंजाइम क्षतिग्रस्त प्रोटीन की मरमत में मदद करता है।
तथा इसके अंदर कैलोरी की मात्रा कम होती है जो कि वजन घटाने का एक उत्तम नाश्ते का रूप है।
कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स के कारण मधुमेह रोगियों के लिए भी इसकी सिफारिश की जाती है।https://foodwada.com/


ये उच्च मैग्नीशियम व सोडियम कम सामग्री होने के कारण इसका उच्च रक्तचाप हृदय के रोगों और मोटे लोगों के लिए लाभदायक होते हैं।
यह भुने हुए मखाने भूख लगने पर खाने के लिए उत्तम स्वास्थ्यवर्धक नाश्ता है आप इस नाश्ता को अपनी शाम की मसाला चाय या कॉफी के साथ भी परोस सकते हैं या स्कूल नाश्ते, बोक्स के लिए पैक कर सकते हैं यात्रा के लिए भी एक बढ़िया विकल्प है।


मखाना फैट व कैलोरी की मात्रा बहुत कम तथा इसमें फाइबर की मात्रा भरपूर होती है जो की पेट को ज्यादा समय तक भरा भरा सा रखता है जिसके सेवन से बार-बार भूख नहीं लगती और वजन तेजी से कम होता है हड्डी बने मजबूत मखाना कैल्शियम से भरपूर होता है ।


सुबह-सुबह खाली पेट मखाना खाने से ब्लड प्रेशर जैसी केई समस्याएं दूर हो जाती है यह हड्डियों को मजबूत बनाने का काम करती है और ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करता है डायबिटीज में यह फायदेमंद है।
पाचन तंत्र बनाएं मजबूत: सुबह खाली पेट मखाना खाने से पाचन दूरूस्त रहता है दरअसल, मखाने में फाइबर की प्रचुर मात्रा पाई जाती है जो पाचन क्रिया को मजबूत बनाने का काम करता है सुबह खाली पेट इसके सेवन से कब्ज ,अपचऔर एसिडिटी जैसी समस्याएं आसानी से दूर हो सकती है।


अगर आपका पेट कमजोर है तो आपको मखाना खाने से बचना चाहिए दरअसल यह मखाना पेट के लिए भारी है और इसे पचाना आसान नहीं होता है इसकी फाइबर को पचाने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी की जरूरत होती है और जब आप इसे खाते हैं तो यह पेट का पानी सूखने लगता है।

masala makhana recipe के बारे कमेंट जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »

Discover more from FOODWADA

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading